लिंग का आकार बड़ा करने के लिए क्रीम: सच्चाई और मिथक

Rate this post

छोटा लिंग उसके मालिक के लिए परेशानी का स्रोत होता है। पुरुष इससे खुश नहीं रहता और खुद पर शक करने लगता है। इसीलिए लिंग का आकार बढ़ाने वाली क्रीम एक बहुत लोकप्रिय उत्पाद है।

लिंग का आकार बढ़ाने वाली क्रीम का बहुत विज्ञापन किया जाता है। यह विचार बहुत आकर्षित करता है: बस दिन में दो बार अपने लिंग पर क्रीम लगा कर मालिश कर लो, और परिणाम आने में समय नहीं लगेगा। एक या दो महीने में आपका लिंग लगभग 5-6 सेमी बढ़ जाएगा।

लिंग का आकार बड़ा करने वाली क्रीम कई तरह की होती हैं, और उनकी कीमत भी। पर अपने सपने को पूरा करने की फिराक में आप व्यावहारिक ज्ञान को मत भूल जाइएगा। हमारी सलाह है कि खरीदने से पहले इन क्रीम के फायदे और नुकसान ज़रूर देख लीजिए।

लिंग का आकार बढ़ाने वाली क्रीम की सच्चाई और उससे जुड़े मिथक

इस लेख में हम लिंग का आकार बढ़ाने वाली क्रीम, मलहम, जैल से जुड़ी पूरी सच्चाई के बारे में बताएंगे और उससे जुड़े कुछ तथ्यों को भी उजागर करेंगे।

मिथक – लिंग का आकार बढ़ाने के लिए क्रीम सबसे सस्ता उपाय है

यदि आप विज्ञापनों का यकीन करें तो इस उपाय का औसत मूल्य 50-80 डॉलर है। कोई भी इसे खरीद सकता है। पर एक ट्यूब में औसतन 50-100 मिली क्रीम होती है। लिंग को काफी बड़ा करने के लिए आपको कई महीनों तक दिन में कई बार क्रीम लगानी होगी। कुछ लोगों को तो इस पूरी प्रक्रिया में छह महीने लग जाते हैं, जिसके लिए कई ट्यूब का इस्तेमाल करना होता है। और कुल मिलाकर यह काफी बड़ी राशि हो जाती है।

इसके अलावा यदि आप बढ़िया प्रभाव चाहते हैं तो आपको वैक्यूम पंप और एक्सटेंडर भी खरीदना होगा। पर, हाँ, इसका परिणाम काफी अच्छा होगा।

मिथक – लिंग का आकार बढ़ाने के लिए क्रीम एक अपेक्षाकृत आसान उपाय है

उत्पादकों के अनुसार, दिन में दो बार क्रीम लगाना काफी है, इसके बाद आपको ट्रेनिंग, मालिश और व्यायाम की कोई ज़रूरत नहीं होगी। कुछ उत्पादकों का दावा है कि उनकी क्रीम से बस एक महीने में लिंग बड़ा हो जाएगा, और लगातार लंबे समय तक लगाने से बढ़ोतरी 10 सेमी तक हो सकती है। यह काफी लुभाने वाला है। पर अधिकतर उपयोगकर्ताओं के लिए यह परिणाम एक महीने में 0.5 सेमी से अधिक नहीं होता है। कावेर्नस बॉडी में रक्त संचार बढ़ जाने से लिंग का विस्तार होता है। परिणाम सिर्फ खड़े लिंग पर ही दिखाई देता है।

इसलिए लिंग का आकार बढ़ाने के लिए सिर्फ क्रीम आपका समाधान नहीं है। बल्कि यह आपके शरीर की छिपी हुई क्षमताओं को उजागर करने का एक तरीका है। यह उन पुरुषों के लिए सबसे लाभकारी है, जिन्हें लिंग के खड़े होने में या लिंग में रक्त संचार की समस्या होती है। अगर आपका आकार सही है और लिंग ठीक से खड़ा होता है तो इसका परिणाम कम से कम होगा। इसके अलावा, क्रीम का असर अस्थाई होता है। इसलिए, संभोग से पहले क्रीम का इस्तेमाल करना सबसे अच्छा होता है, इससे आप अपने पार्टनर को चौंका सकते हैं। एक बार लगाने पर क्रीम 2 घंटे तक काम करती है। यदि आप रोजाना उसका इस्तेमाल करेंगे तो यह अधिक लंबे समय तक काम करेगी। पर, फिर भी अगर आप क्रीम का इस्तेमाल बंद कर देंगे, आपका लिंग जल्दी ही अपने पुराने आकार में वापस आ जाएगा।

इस पैटर्न को आसानी से समझा जा सकता है। लिंग भी शरीर के अन्य भागों – जैसे गुर्दे, दिल, माँसपेशियों या पेट आदि की तरह ही होता है। कोई भी अंग किसी क्रीम या लेप को लगाने से अपने आप नहीं बढ़ेगा। अगर सब कुछ इतना आसान होता तो एथलीट और बॉडी बनाने वाले जिम में इतने घंटे यूँ ही नहीं गँवाते। बस दिन में दो बार क्रीम लगाना ही काफी होता, और सब कुछ अपने आप बड़ा हो जाता। अफसोस, प्रकृति इस तरह के चमत्कारों के लिए सक्षम नहीं है। नियमित अभ्यास से ही अच्छे परिणाम मिल सकते हैं। यह सिर्फ माँसपेशियों पर ही लागू नहीं होता है, बल्कि लिंग के उतकों पर भी लागू होता है। उसे बड़ा करने के लिए उस पर काम करना ज़रूरी है। जिसके लिए सिर्फ क्रीम ही नहीं बल्कि एक्सटेंडर, वैक्यूम उपकरण आदि भी चाहिए। नियमित मालिश (जेलकिंग) के बारे में मत भूलिए। नियमित मेकैनिक एक्शन से ही वृद्धि होती है। और क्रीम से इस प्रक्रिया का असर कई गुना बढ़ जाता है। उनसे रक्त संचार बेहतर होता है और तब व्यायाम से कोशिकाओं का विभाजन कई गुना बढ़ जाता है, और शरीर पर उसका असर बहुत अच्छा होता है। क्रीम के साथ दूसरी तकनीक आजमाने से लिंग में वृद्धि निश्चित है।

मिथक – लिंग का आकार बढ़ाने के लिए क्रीम सबसे सुरक्षित उपाय है

उत्पादकों के अनुसार, लिंग का आकार बढ़ाने वाली क्रीम स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित होती हैं। पर कुछ क्रीम या जैल की संरचना में स्पष्ट रूप से हानिकारक पदार्थ होते हैं। विशेष तौर पर कम गुणवत्ता वाले उत्पादों में।

एक अच्छी क्रीम में मुख्यतः कार्बनिक पदार्थ होते हैं, जिससे क्रीम अधिकतम समा सके, और साथ ही ऐसे घटक भी होते हैं जिनसे रक्त परिसंचरण बेहतर होता है। पर सबसे प्राकृतिक उत्पादों (उदाहरण के लिए समुद्री शैवाल का सत) का भी परोक्ष प्रभाव होते हैं। ये प्रभाव बाह्य हो सकते हैं (जैसे खुजली होना, चकत्ते पड़ जाना या जलन होना) या आंतरिक भी (जैसे सूजन होना, कफ बनना या नाक बहना आदि), एलर्जी की प्रतिक्रियाएँ। ऐसी स्थिति में क्रीम का उपयोग तुरंत रोक दीजिए।

FREE Fast Shipping offer for our readers:

  • पहले और दूसरे सप्ताह में:
    कड़ापन लम्बे समय के लिए कठोर बन जाता है, लिंग की संवेदनशीलता २ गुना तक बढ़ जाती है. परिणाम नज़र आने लगते हैं – क्योंकि आपके लिंग का आकार १.५ सेमी. तक बढ़ चुका होता है.1
  • दूसरे और तीसरे सप्ताह में:
    पहले से आपके लिंग में आकार वृद्धि दर्शित होने लगती है, यह संरचनात्मक रूप से एकदम सटीक बन जाता है. सम्भोग का समय ७०% तक बढ़ जाता है!2
  • चौथे सप्ताह में और उससे आगे:
    लिंग ४ सेमी. तक बढ़ जाता है! सम्भोग का आनंद पहले से और भी अच्छा हो जाता है. ओर्गेज़्म लम्बे समय के होते हैं जो कि ५-७ मिनट तक चलते हैं!

सच्चाई – इस क्रीम का उपयोग लगातार नहीं करना चाहिए

लिंग को बढ़ाने की क्रीम का प्रभाव अल्पकालिक होता है, यह बात समझना बहुत ज़रूरी है। पर अगर आप कुछ समय के लिए लंबाई और मोटाई में लिंग को बड़ा करना चाहते हैं, तो क्यों नहीं? इस तरह आप पुनः आत्मविश्वास प्राप्त कर सकते हैं। यह सर्जरी से कम तकलीफ़देय है।

सच्चाई – किसी को इस बात का पता नहीं चलेगा कि आप लिंग को बड़ा करने के लिए क्रीम का इस्तेमाल करते हैं

क्रीम को आप किसी समय भी लगा सकते हैं। एक्सटेंडर से विपरीत, जिसे पुरुष पहनना नहीं चाहते, क्रीम दिखाई नहीं देती है। पर सेक्स से पहले लिंग पर क्रीम लगा कर बिस्तर में अपनी क्षमताओं को साबित कर अपने पार्टनर को चौंकाना मुश्किल नहीं।

सच्चाई – लिंग को बड़ा करने वाली क्रीम का इस्तेमाल किसी भी आयु में किया जा सकता है

अगर सर्जरी सिर्फ वयस्क उम्र में करवानी चाहिए, और गोलियाँ सिर्फ लिंग सीधा खड़ा न होने की समस्या शुरू होने पर ही लेनी चाहिए, तो हम आपको यह आश्वासन दे सकते हैं कि एक किशोर वय का व्यक्ति भी लिंग बड़ा करने वाली क्रीम का उपयोग कर सकता है।

लिंग को बड़ा करने के लिए कौन सी क्रीम मौजूद हैं?

लिंग को बड़ा करने वाली क्रीम को लगाने का तरीका और उनके असर की अवधि भिन्न हो सकती है।

संभोग से पहले लगाने वाली क्रीम। ये क्रीम कम समय के लिए लिंग में रक्त संचार बेहतर कर देती हैं। इससे इरेक्शन बेहतर हो जाता है, और लिंग बड़ा हो जाता है। इस तरह संभोग के दौरान पुरुष अधिक आत्मविश्वासी महसूस करता है।

लंबी अवधि के असर वाली क्रीम। ये क्रीम मेटाबोलिज़्म बढ़ाकर और कार्वेनस बॉडी में कोशिकाओं के विभाजन को बढ़ाकर लिंग का आकार बड़ा कर देती हैं। विवादास्पद प्रभावों के बावजूद ये क्रीम बहुत लोकप्रिय हैं।

वैक्यूम पंप या एक्सटेंडर के साथ प्रयोग करने वाली जेलकिंग के लिए सहायक क्रीम। इन क्रीम से इन तकनीक का प्रभाव अधिक हो जाता है।

लिंग बड़ा करने वाली क्रीम का प्रयोग किस तरह किया जाए?

हर उत्पादक अपनी क्रीम के इस्तेमाल का तरीका खुद बताता है, पर इसके लिए आम तरीका भी होता है। लिंग की त्वचा पर क्रीम या जैल की पतली सतह लगाएं, क्योंकि इसमें बहुत से सक्रिय घटक होते हैं, अधिक मात्रा में, इससे त्वचा पर जलन आदि हो सकती है।

क्रीम को खरीदने से पहले, एलर्जी के लिए, उसमें प्रयुक्त घटकों का अध्ययन करना ज़रूरी है (अगर आपको एलर्जी है तो)। हर हाल में एक एलर्जी टेस्ट करना ज़रूरी है: क्रीम को कलाई की त्वचा के एक छोटे भाग पर लगाकर उसकी प्रतिक्रिया देखिए। अगर सब ठीक रहता है तो क्रीम का मन-मुताबिक इस्तेमाल कीजिए!

क्रीम को हल्की मालिश करते हुए त्वचा पर लगाना चाहिए, जिससे त्वचा को कोई नुकसान न हो, और मेटाबोलिज़्म और रक्त संचार बढ़ाया जा सके। कुछ क्रीम को संभोग से कुछ समय पहले लगाना चाहिए। कुछ अन्य क्रीम को जेलकिंग करने या एक्सटेंडर लगाने से पहले लगाना चाहिए।

लिंग पुरुष के आत्म-सम्मान को सीधे प्रभावित करने वाला अंग है। इसलिए बहुत से पुरुष प्रकृति को चुनौती देकर, दवा की गोलियों, क्रीम, मलहम, एक्सटेंडर व अन्य उपकरणों की मदद से लिंग की वृद्धि का प्रयास करते हैं। इन सभी उपायों का असर भिन्न हो सकता है, पर प्रयास करके आपको बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।


शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।