हॉमोनल गोलियों के इस्तेमाल से स्तन कैसे बढ़ाएँ

दुनियाँ भर की बहुत सी महिलाएँ अपने स्तनों के आकार से संतुष्ट नहीं हैं. परिणामस्वरूप, उनमें असुरक्षा की भावना पनप जाती है और वे अपनी सुंदरता और कामुकता पर ही शक करने लग जाती हैं.

छोटे स्तन कोई समस्या नहीं हैं. स्तनों का आकार किसी भी तरह सामान्य संक्रियाओं पर प्रभाव नहीं डालता है, मतलब बच्चे के जन्म के बाद दुग्ध उत्पादन पर इसके आकार का कोई प्रभाव नहीं होगा. पर, आपके स्तन केवल स्त्री-अंग नहीं हैं. वे आकर्षकता, कामुकता, और स्त्रीत्व के अवयव भी हैं.

क्या बिना प्लास्टिक सर्जरी कराए स्तन बढ़ाना सम्भव है?

१६ से २० साल की उम्र में प्रकृतिक स्तन वृद्धि सम्भव है पर बाद में वृद्धि कम होती है, या नहीं ही होती है.

मैमेरी ग्रंथियों की वृद्धि के लिए अपने हॉर्मोनों को प्रभावित करना बहुत आवश्यक है, ख़ास तौर पर एस्ट्रोजन हॉर्मोन का उत्पादन जो कि स्तनों की वृद्धि और विकास को प्रभावित करता है.

कौन से हॉर्मोन स्तनों को बड़ा होने में मदद करते हैं?

स्तन बढ़ाने के सभी उत्पाद प्रभावी नहीं हैं. सबसे अधिक प्रभावी वो होते हैं जिनमे ये हॉर्मोन होते हैं:

  • प्रोजेस्टरॉन, जो कि गर्भावस्था का हॉर्मोन है, ये मैमेरी ग्रंथियों की वृद्धि में योगदान देता है;
  • एस्ट्रोजन स्तनों के निर्माण तथा वृद्धि के लिए ज़िम्मेदार है, पर इसका अत्यधिक स्तर उलटा प्रभाव भी कर सकता है, तथा मैमेरी ग्रंथियों की वृद्धि को रोक सकता है;
  • प्रोलैक्टिन हॉर्मोन स्तनों के आकार को बढ़कर उनको स्तनपान के लिए तैयार करता है.

हॉमोनल गोलियों के इस्तेमाल से स्तन कैसे बढ़ाएँ

स्तन वृद्धि पर एस्ट्रोजन का क्या प्रभाव होता है?

मासिक चक्र के दौरान, स्त्री के शरीर में कई सारे चक्र सम्बंधी परिवर्तन होते हैं. ओव्युलेशन वह स्थिति है जब एस्ट्रोजन का स्तर सबसे अधिक होता है, जो कि स्तन ऊतकों की वृद्धि में सहायता करते हैं. इसलिए मासिक धर्म और ओव्युलेशन के दौरान बड़े स्तन और कुछ नहीं बल्कि बढ़ा हुआ रक्त संचार तथा ऊतकों की सूजन है. अगर गर्भ धारण नहीं होता तो ये असर ग़ायब हो जाते हैं.

एस्ट्रोजन के अलावा स्तनों का आकार नियमित यौन सम्बंध तथा मैमेरी ग्रंथियों में वसा की मात्रा से भी प्रभावित होता है. ये कोई राज़ की बात नहीं है कि वज़न बढ़ने से स्तनों का आकार बढ़ जाता है; जबकि वज़न घटने पर उल्टा होता है, जिससे लचीलेपन की कमी हो जाती है और मैमेरी ग्रंथियाँ छोटी हो जाती हैं.

आज के समय में एस्ट्रोजन वाले जेल्स, गोलियों और क्रीम्स की संख्या बहुत है. इन गोलियों में अकसर फायटोहॉर्मोन्स तथा संश्लेषित एस्ट्रोजंस होते हैं. ये पौधों, सोयाबीन तथा अनाज से निकाले जाते हैं.

एस्ट्रोजन हॉर्मोन युक्त स्तन वृद्धि वाली औषधियां

  • फ़ेमोस्टोन;
  • प्रीमारिन;
  • एस्ट्रोजेल;
  • डिविजेल;
  • डायने-३५.

बिना किसी चिकित्सकीय परामर्श के स्तन वृद्धि गोलियाँ लेना कड़े रूप से निषिद्ध है.

स्तन वृद्धि के उत्पाद

आजकल स्तन वृद्धि के लिए कई सारे उत्पाद हैं, जैसे कि डाइट से सम्बंधित आहार, जिनके निर्माता स्तनों के आकार में एक धीमी पर प्रभावी वृद्धि की बात करते हैं.

इनमे स्तनों की वृद्धि को ध्यान में लेकर बनाया गया प्रकृतिक नुस्ख़ा होता है. ये स्त्री हॉर्मोन्स के प्रकृतिक ऐनालॉग्स के प्रयोग से होता है.

उदाहरण के लिए, ख़ास क्रीम्स तथा जेल्स रक्त प्रवाह को सामान्य करने में मदद करते हैं तथा स्तनों की त्वचा की स्थिति सुधारते हैं. इसका एक उदाहरण है बस्ट क्रीम स्पा. मेसोथेरेपी का भी समान प्रभाव होता है.

producr for breast

स्तन वृद्धि के अन्य तरीक़ों में शामिल है पीलिंग, मरीन पौधों सहित बॉडी रैप्स, मृदा उपचार आदि.

उनमें से सभी स्तनों के अंदरूनी ऊतकों को कोई प्रभाव पहुँचाए बिना बाह्य रूप से कार्य करते हैं. ऐसे उत्पादों के अधिकांश रिव्यू कहते हैं कि इनका प्रभाव नगण्य अथवा कम समय के लिए होता है.

Breast enlargement pills: mechanism of action

स्तन वृद्धि वाली गोलियाँ: कार्य की क्रियाविधि

ये गोलियाँ एस्ट्रोजन की सहायता से मैमेरी ग्रंथियों के ऊतकों को पुनरुत्पादित करने के उद्देश्य से बनी होती हैं. स्त्रियों के स्तनों में विशिष्ट ग्राहक होते हैं जो कि गर्भरोधक गोलियों में पाए जाने वाले एंज़ाइम्स को शोषित करने की क्षमता रखते हैं. नितम्बों तथा पेट में भी ये ग्राहक होते हैं.

स्तन वृद्धि के लिए हॉर्मोनल उत्पाद कितने प्रभावी हैं?

महिलाओं की हिस्टोलॉजिकल बीमारियों का इलाज करने में हॉर्मोन्स कुल स्वास्थ्य को बेहतर करने तथा उनकी कामुकता एवं आकर्षण पर सकारात्मक प्रभाव डालने में मदद करते हैं. स्तन वृद्धि उनके द्वारा उत्पादित एक अन्य प्रभाव है. गर्भनिरोधक गोलियाँ मासिक धर्म के दर्द से निजात दिलाती हैं तथा मासिक धर्म चक्र को सामान्य करती हैं.

हॉर्मोनल औषधियों के कई सारे लाभ हैं:

  • स्तनों को कम से कम २ आकार बढ़ाने में सहायता करती हैं;
  • तत्काल प्रभाव करती हैं;
  • अवांछित गर्भाधान से बचाती हैं;
  • स्तन केवल बड़े ही नहीं और अधिक गोल भी हो जाते हैं, साथ ही बालों की स्थिति और सुधर जाती है तथा त्वचा और भी अधिक नवीनीकृत तथा लचीली बन जाती है.

क्या ये औषधियाँ सुरक्षित हैं?

स्तन बढ़ाने के लिए प्रयुक्त हॉर्मोन थेरेपी महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए एकदम सुरक्षित है. पूर्ण रूप से ऐसी दबाइयों का स्वास्थ्य पर फ़ायदेमंद प्रभाव हो सकता है. हॉर्मोन गोलियाँ ज़हरीली नहीं होतीं पर शरीर के विशिष्ट गुणों के अनुसार उनके साइड इफ़ेक्ट हो सकते हैं.

अगर कोई महिला हॉर्मोन गोलियों की सहायता से स्तनों का आकार बढ़ाना चाहती है तो उसे सम्भव प्रतिक्रियाओं से सचेत रहना चाहिए:

  • शरीर के वज़न में बदलाव;
  • माइग्रेन, तनाव, दबाव;
  • सोने से सम्बंधित विकृतियाँ;
  • नर्वस विकृतियाँ;
  • सरदर्द;
  • पाचन पथ में समस्याएँ;
  • अस्थिर रक्तचाप;
  • एलर्जियाँ.

साथ ही ध्यान दीजिए कि बहुत अधिक एल्कोहल सेवन, धूम्रपान तथा तनावरोधी, शांतिकारक और एंटीबायोटिक औषधियों के बहुत अधिक सेवन से हॉर्मोन्स का प्रभाव कम हो सकता है.

 

 

वानस्पतिक उत्पाद और फायटोस्ट्रोजंस

वानस्पतिक उत्पाद और फायटोस्ट्रोजंस

फायटोस्ट्रोजंस ऐसे पदार्थ हैं जिनकी उत्पत्ति प्रकृतिक है. एक बार वे आपके शरीर में प्रवेश कर जाते हैं तो हॉर्मोन्स की तरह काम करते हैं. ये पदार्थ अनाज, सोया की फ़सलों, अनार, गाजर, कैमोमाइल फूल, गोभी तथा अन्य औषधीय पौधों में होते हैं.

निसंदेह शरीर पर फायटोस्ट्रोजंस का प्रभाव एस्ट्रोजन जैसा नहीं होता है. वे स्वस्थ हॉर्मोन स्तर को वापस सही करते हैं, ट्यूमर की वृद्धि को रोकते हैं, पर उनकी क्रियाएँ मैमेरी ग्रंथियों का आकार बदलने के लिए पर्याप्त नहीं हैं. वानस्पतिक औषधियों का प्रयोग केवल स्तनों के आकार को सुधारने के लिए किया जा सकता है. इसके नियमित प्रयोग से वे स्तनों को और अधिक आकर्षक, तना हुआ तथा लचीला बना सकती हैं.

ये मत भूलिए कि आपके लिए सही औषधि का चुनाव करना आपके डॉक्टर का काम है, इसे ख़ुद से ख़रीदने की कोशिश मत कीजिए. पहले तो, आपको अपने शरीर में हॉर्मोन स्तर पता करवाने के लिए एक रक्त परीक्षण करवाना पड़ेगा.

स्तन वृद्धि वाली गोलियाँ

आधुनिक फ़ार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री ड्रग्स की एक बहुत बड़ी शृंखला देती है. हम उनमें से सबसे अधिक प्रभावी तथा प्रसिद्ध विकल्पों पर एक निगाह डालेंगे.

  1. यास्मिन एक गर्भनिरोधक औषधि है. ये एस्ट्रोजन युक्त हॉर्मोनल उत्पाद है. इसके गर्भरोधक प्रभाव के अलावा इसके कई अतिरिक्त फ़ायदे भी होते हैं: इसमें ड्रोस्पीरेनान होता है जो वज़न तथा मोटापा बढ़ने से रोकता है तथा एडीपोज ऊतकों में उपापचय को सामान्य करता है. आपको गर्भावस्था तथा स्तनपान के दौरान यास्मिन नहीं लेनी चाहिए.
  2. डेसोगेस्ट्रोल एक गर्भनिरोधक औषधि है. ये स्तन बढ़ाने में सहायता करती है. इस दबाई में स्त्री सम्भोग हॉर्मोन्स के संश्लेषित वर्शन होते हैं. इसे लेने से पहले किसी चिकित्सक से सलाह ले लीजिए.
  3. जेआनिन एक हॉर्मोनल गर्भनिरोधक औषधि है. ये डेसोगेस्ट्रोल के समान है. प्रयोग से पहले चिकित्सकीय परामर्श लीजिए.
  4. डायनोजेस्ट एक संयुक्त दवा है. इसके सक्रिय एंज़ाइम को जेस्टोजन कहा जाता है. ये औषधि इंडोमैट्रीयोसिस ऊतकों की वृद्धि को बढ़ावा देती है इसलिए सेवन से पहले आपको डॉक्टर से परामर्श अवश्य लेना चाहिए.
  5. मैक्सीबस्ट एक दवा है जिसे संयुक्त रूप से जर्मन, स्वीडिश तथा फ़्रेंच रसायनविज्ञानियों ने विकसित किया था. इसमें प्यूरारिया मिरिफिका अर्क (थाई जड़) होता है, जिसमें एस्ट्राडियोल जैसे फ़ाइटोएस्ट्रोजंस होते हैं. ये स्तनों को उठाने में, उनका आकार बढ़ाने में, साथ ही साथ नाखूनों, बालों, हड्डियों तथा त्वचा की स्थिति सुधारने में सहायता करती है. इसे ६ महीने तक प्रयोग किया जाना चाहिए. चक्र के अनुसार इलाज मासिक धर्म के पहले दिन से शुरू हो जाना चाहिए: दिन में खाने में समय ४ गोलियाँ. दो हफ़्तों में आपको रुकने की आवश्यकता है, और फिर से मासिक धर्म के पहले दिन से इसे लेना शुरू कर दीजिए.
  6. पुश अप नैचुरल का उत्पादन नीदरलैंड्स में होता है. इसमें प्रकृतिक तत्व होते हैं. ये स्तनों को पोषित करता है, उन्हें सुपुष्ट, सुंदर तथा खिंचे हुए बनाता है. खाने के साथ दिन में ५ गोलियाँ लीजिए तथा बहुत सारा पानी पीजिए (हर दिन १.५ से २ लीटर पानी पीजिए).

वानस्पतिक दबाइयाँ

चलिए स्तन वृद्धि वाली वानस्पतिक दबाइयों पर एक सरसरी निगाह डालते हैं.

  1. मैक्सीबस्ट कॉफ़ी में प्यूरारिया मिरिफिका पाउडर होता है. फ़ायदे: मासिक चक्र का स्थिरीकरण, सामान्य स्वास्थ्य में सुधार, ख़ास तौर पर मेनोपॉज़ के दौरान, एवं स्तन वृद्धि. साथ ही, ये ओस्टेओपोरोसिस से बचाती है. कॉफ़ी बनाइए और दिन में एक बार पीजिए. अच्छे परिणामों के लिए ४ महीने का कोर्स संस्तुत है.
  2. मैक्सी कैप्सूल्स में प्यूरारिया मिरिफिका सत, सोया आइसोफ़्लैवोनोइड्ज़ तथा हॉप्स होते हैं. हर रोज़ ४ कैप्सूल्स लीजिए; कोर्स की अवधि ३ महीने है.
  3. सोया आइसोफ़्लैवोनोइड्ज़- ये सोया सत वाली एक दबाई है. इसमें बहुत सारी मात्रा में फायटोस्ट्रोजन होता है, जिससे स्तन का आकार बढ़ाने में सहायता मिलती है.
  4. फ़ेमिनल ड्रग में लाल तिपतिया घास का सत होता है जो कि मैमेरी ग्रंथियों की वृद्धि को बढ़ाता है. ४ महीने या लम्बे समय के लिए हर दिन १ कैप्सूल लीजिए. उपचार की अधिकतम अवधि २ साल है.

चलिए अब मुद्दे पर आते हैं

ये तो आम सी बात है कि स्तन बढ़ाने वाले सभी उत्पाद महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित हैं. कुछ दबाइयाँ सच में आपका स्तन आकार बढ़ा सकती हैं पर किसी चमत्कार की आशा मत कीजिए. याद रखिए कि एक बार आप ये गोलियाँ लेना बंद करते हैं तो आप कोई भी परिणाम पा लें, वो ख़त्म होने लगेगा.

आज तक प्लास्टिक सर्जरी एक मात्र ऐसा प्रभावी तरीक़ा है जो जल्दी से सहायता करता है तथा स्थायी रूप से स्तन बढ़ा देता है. पर चाक़ू की धार के नीचे से गुज़रने के लिए, आपको इसके हानि-लाभ सभी पता होने चाहिए, क्योंकि प्लास्टिक सर्जरी की कई समस्याएँ तथा उलटे असर होते हैं.

Reviews

रिव्यूज़

फ़ोरम्स तथा वेबसाइट्स पर कई सारे रिव्यूज़ पढ़ने के बाद ऐसा निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि हर वो महिला जो स्तन बढ़ाना चाहती है कुछ ऐसा लिखती है. “ मेरे डॉक्टर ने मुझे गर्भनिरोधक गोलियों का सुझाव दिया, जिनका एक दुष्परिणाम मैमेरी ग्रंथियों के ऊतकों की अस्थाई सूजन है: जैसे ही आप इन गर्भनिरोधकों को लेना बंद करते हैं, आपके स्तन पिछले आकार तथा माप के हो जाते हैं.”

कुछ महिलाओं का कहना है कि अगर आप बिना सर्जरी के स्तनों का आकार बढ़ाना चाहती हैं तो वज़न बढ़ाना ही एकमात्र विकल्प है.

औषधीय पौधों तथा वनस्पतियों के रिव्यूज़ भी अलग-अलग होते हैं: कुछ कहते हैं कि प्रभाव काफ़ी है, और अन्य लोग कहते हैं कि ये पूरी तरह पागलपन है और स्तन तभी बढ़ेंगे जब आपके स्तन ऊतक अंदर से बदलते हैं.

ये था हमारा छोटा सा शोध उस मुद्दे पर जिसे हर आधुनिक महिला प्रासंगिक पाती है. ये सोचना आपका काम है कि आपको स्तन बढ़ाने के लिए कौन सा उत्पाद इस्तेमाल करना है, और करना भी है या नहीं.

अपना ध्यान रखिए और स्वस्थ रहिए!

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।