घर पर लिंग बड़ा करने के तरीके

घर पर ही अपने लिंग को बड़ा कैसे करें?

हर पुरुष अपने लिंग के साइज़ से संतुष्ट नहीं होता, और कई लोग मानते हैं कि ये एक ऐसी समस्या है जो आपकी जिंदगी बर्बाद कर सकती है। कम लंबाई और मोटाई के दुष्परिणाम होते हैं आत्म-विश्वास में कमी और सेक्स रिश्तों में खटास। आज के युग में कई ऐसी तकनीक और दवाइयाँ मार्केट में मौजूद हैं जिनके निर्माता दावा करते हैं कि इनसे आपके लिंग की न सिर्फ लंबाई बल्कि मोटाई भी बड़ी तेजी से बढ़ सकती है। चलिए यह देखने की कोशिश करते है कि क्या ऐसे तरीके असर करते हैं और उपयोग करने लायक हैं भी या नहीं।

लिंग की औसत माप

वयस्क पुरुषों में लिंग की लंबाई और मोटाई के लिए कोई मानक नहीं हैं। यूरोप में पुरुषों की औसत लंबाई 13-16 सेमी और मोटाई 3-5 सेमी होती है। इससे थोड़ा बड़ा या छोटा साइज़ मानक से बाहर माना जाता है। पूरे खड़े लिंग में 8 सेमी से कम या 25 सेमी से ज़्यादा के लंबाई को गंभीर विचलन माना जाता है। प्रत्येक पुरुष को खुद ही यह फैसला करना होता है कि उसका लिंग “सामान्य” है या नहीं। इसके निर्धारण के कई पैमाने होते हैं, सेक्स लाइफ की गुणवत्ता, उसके पार्टनर की अपेक्षाएँ, रूप-रंग और निजी नज़रिया आदि।

घर पर लिंग बड़ा करने के मुख्य तरीके

दवाइयाँ और डाइटरी सप्लिमेंट। लिंग बड़ा करने में इनसे कैसे मदद मिलती है?

आंकड़ों के अनुसार पुरुषों में सबसे मंहगा कॉस्मेटिक ऑपरेशन होता है लिंग बड़ा करने की सर्जरी, वहीं औरतों में यह स्थान लेती है स्तन बड़े करने की सर्जरी। दूसरे नंबर पर राइनोप्लास्टी आती है।

आधारभूत रूप से 4 तरीके होते हैं:

  • ट्रैक्शन विधि
  • वैक्यूम विधि
  • सर्जिकल विधि
  • दवाइयाँ

ट्रैक्शन विधि लिंग के कॉर्पस कैवर्नोसम को खींचने के सिद्धांतों पर आधारित है। ऐसा माना जाता है कि हमारे शरीर के कई अंग, जैसे कान, उँगलियाँ, होंठ और पुरुष जननांग नियमित रूप से लगातार खींचने से लंबे किए जा सकते हैं। इस तरह के खिंचाव से कोशिकाएँ आगे बढ्ने लगती हैं और उत्तक बड़े हो जाते हैं।

इस विधि में निम्नलिखित तकनीकें शामिल हैं:

  • जेल्क़िंग – खास तरह की मालिश जिसमें दूध निकालने की तरह हाथ चलाए जाते है;
  • मालिश – मालिश के ऐसे जटिल तरीके जिनसे लिंग की लंबाई बढ़ा कर खड़ेपन को बेहतर किया जाता है;
  • लिंग में वजन लटकाना – लिंग को खींचने का सबसे खतरनाक और विवादास्पद तरीका।

ट्रैक्शन विधि में एक खास पीनाइल एक्सटेंडर का भी इस्तेमाल किया जाता है। इस उपकरण से लिंग खींचा जाता है और सीधा हो जाता है।

ऐसी विधियों के खराब पहलू हैं, दर्द होना, खासकर पहली कुछ बार और इनमें कुछ खास उपकरणों या तकनीकों को लगातार उपयोग करना होता है। विशेषज्ञों के अनुसार स्थायी नतीजे पाने के लिए आपको इनमें कम से कम 2-4 घंटे रोज निवेश करना आवश्यक होता है।

वैक्यूम विधि लिंग बड़ा करने की गैर-सर्जिकल विधि है जिसमें हाथ से या ऑटोमैटिक वैक्यूम पंप की मदद से लंबाई बढ़ाई जाती है। इस विधि में लिंग को एक वैक्यूम चेम्बर में रखकर कॉर्पस कैवरर्नोसम में वैक्यूम बनाकर उसे खींचा जाता है। इस तरीके से आप औसतन अपने लिंग को एक साल में 3-4 सेमी बड़ा कर सकते हैं। इस विधि से प्राप्त असर कितनी देर चलता है इस संबंध में कोई आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं।

सर्जिकल विधि में त्वचा के अंदर खास तरह के फिलर इंजेक्शन से डाले जाते हैं जिनसे लंबाई (5 सेमी तक) और मोटाई (3 सेमी तक) बढ़ जाती है। फिलर के रूप में पेशेंट की चर्बी या सिंथेटिक जैल इस्तेमाल की जा सकती है। यह सर्जरी कठिन नहीं होती है और इसमें बस लिंग के छुपे हुए हिस्सों को एक लीगामेंट हटा कर ऊपर लाया जाता है और लिंग में एक खास पदार्थ भर दिया जाता है।

दवाइयों में शामिल हैं गोलियाँ, क्रीमें और कई तरह के मिक्सचर जो जननांगों को बड़ा करके उनमें रक्त के प्रवाह को बढ़ा देते हैं।

यह विधि तभी असर करती है जब इसे ट्रैक्शन या वैक्यूम विधियों के साथ किया जाए।

देसी इलाज से अपने लिंग को कैसे बड़ा किया जाए?

लिंग बड़ा करने के सबसे असरदार तरीकों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • जेल्क़िंग
  • एक्सटेंडर
  • वैक्यूम पंप
  • लिंग पर वजन टांगना
  • जैल, क्रीमें, डाइटरी सप्लिमेंट्स।

नतीजे पाने के लिए नियमित व्यायाम जरूरी होता है और इससे ही नतीजे स्थायी रहते हैं। यदि आप व्यायाम करना बंद कर देते हैं तो आपने जो भी सफलता पाई है वो चली जाएगी।

देसी इलाज से अपने लिंग को कैसे बड़ा किया जाए?

एक्सटेंडरों से लिंग बड़ा करना। अपने लिंग के साइज़ को तेजी से बड़ा कैसे करें?

जेल्क़िंग की तरह यह विधि भी सबसे असरदार तरीकों में से एक है, और इसलिए सबसे लोकप्रिय भी है।

एक एक्सटेंडर (जिसे एंड्रोपीनस भी कहते हैं) एक ऐसा उपकरण है जिसमें नीचे एक प्लास्टिक का बेस रिंग होता है। इसमें धातु (प्लास्टिक/सिलिकॉन) का एक शाफ्ट होता है जिसमें आंतरिक स्प्रिंग लगे होते हैं और एक ऊपरी प्लास्टिक सपोर्ट होती है जिसमें एक सिलिकॉन बैंड होता है। इस उपकरण को इस्तेमाल करना आसान होता है, इसका साइज़ काफी छोटा होता है और यदि इसे ठीक से पहना जाए तो कपड़ों के ऊपर से ये दिखती भी नहीं है।

इसके काम करने का सिद्धान्त है लिंग के सुपाड़े को रिंग में रख कर उसे धीरे-धीरे खींचना। इसका नतीजा यह होता है कि लिंग लंबा होते समय कोई असुविधा नहीं होती। इसके नियमित उपयोग से कॉर्पस कैवर्नोसम की लंबाई धीरे-धीरे बढ़ जाती है जिससे लिंग बड़ा हो जाता है।

एक एक्सटेंडर का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि जब आप इसे पहनना बंद कर देते हैं तब भी लिंग वापस घट कर अपने पुराने साइज़ पर नहीं जाता। चलिए कुछ अफ्रीकन आदिवासियों का एक उदाहरण लेते हैं जो अपने होंठों, कान और गर्दन को लंबा करने के लिए खास तरह के उपकरण उपयोग करते आए हैं। इन उपकरणों के हटा लेने के बाद भी शरीर के इन अंगों का साइज़ वापस छोटा नहीं होता है।

मार्केट में 3 तरह के एक्सटेंडर उपलब्ध हैं:

  • वैक्यूम एक्स्टेंडर्स;
  • कमर पर बांधने वाले वेस्टबैंड एक्सटेंडर;
  • खिंचाव वाले पुलिंग एक्सटेंडर।

ये सभी एक जैसे असरदार होते हैं। वैक्यूम और वेस्टबैंड एक्सटेंडर सबसे सुविधाजनक होते हैं। दाम की बात करें तो पुलिंग एक्सटेंडर सबसे किफ़ायती होते हैं।

औसत दाम हैं: वैक्यूम एक्सटेंडर: रु. 3000- 4000, वेस्टबैंड एक्सटेंडर: रु. 2500 – 3000, पुलिंग एक्सटेंडर: रु. 1800 – 2200.

वैक्यूम पंप। अपने लिंग को तेजी से लंबा कैसे करें?

यह उपकरण एक्सटेंडर जितना ही असरदार होता है लेकिन इससे लिंग की लंबाई और मोटाई दोनों बढ़ जाते हैं। इस उपकरण को नामर्दी और ठीक से खड़े न होने की समस्याओं में भी लगाने की सलाह दी जाती है।.

लिंग को एक ऐसे वैक्यूम चेम्बर में रखा जाता है जिसमें वैक्यूम बनाया जाता है। वैक्यूम से रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है और वे कोशिकाएँ खिंच जाती हैं जिनसे लिंग के साइज़ की बढ़त उत्तेजित हो जाती है।

इनका औसत दाम रु. 4000 – 4500 तक होता है।

लिंग पर वजन लटकाना। अपने लिंग को फ्री में कैसे बड़ा करें?

यह ट्रैक्शन विधि का ही एक प्रकार है। आपको लिंग पर वजन लटकाने होते हैं जिससे उसमें खिंचाव आता है। यह तकनीक विवादास्पद है और इससे गंभीर चोट लगने का खतरा होता है, खास कर अधिक वजन लटका लेने पर। लिंग बढ़ाने के इस तरीके की प्रभावशीलता को लेकर कोई आंकड़ें उपलब्ध नहीं हैं।

वजन कैसे लटकाने चाहिए

अपने लिंग को खाने के आम नमक से वार्म-अप करें। लिंग के सुपाड़े पर एक गोल रस्सी लगाने और इसे एक बैंड-एड से चिपका दें। इस रस्सी में कुछ वजन लटका कर कुछ मिनट के लिए छोड़ दें। हम सलाह देते हैं कि आप 1 मिनट से शुरुआत करें और हर बार थोड़ा-थोड़ा करके 15 मिनट तक बढ़ाते जाएँ। व्यायाम के अंत में रक्त के प्रवाह को सामान्य करने के लिए हल्की मसाज करें।

इस व्यायाम को हमेशा बैठ कर किया जाता है। वजन को धीरे-धीरे बढ़ाते जाएँ। यदि आपको लिंग के सुपाड़ा सुन्न लगने लगे तो आपको व्यायाम तुरंत बंद कर देना चाहिए।

क्रीमें और ओइंटमेंट्स। लिंग में रक्त का प्रवाह कैसे बढ़ाया जाए?

ऐसे नुस्खे तभी असर करते हैं जब इन्हें लिंग बड़ा करने की किसी यांत्रिक विधि के साथ उपयोग किया जाए।

इसके काम करने का सिद्धान्त लिंग में रक्त के प्रवाह के बढ़ जाने पर आधारित है। यदि आप किसी विधि को अकेले उपयोग करेंगे तो आपको नतीजे सिर्फ कुछ समय के लिए ही मिलेंगे। किसी भी प्रोडक्ट को लगाने के पहले प्रोडक्ट के घटकों से पूरी तरह परिचित हो जाएँ जिससे एलर्जी होने की संभावना न हो।

असर के तरीके और तीव्रता के आधार पर ओइंटमेंट्स को 3 समूहों में विभाजित किया जा सकता है:

  • अल्पकालिक;
  • दीर्घ-कालिक;
  • सहायक।

पहले समूह को अल्पकालिक प्रभाव के लिए डिज़ाइन किया गया है जिनसे लिंग 2-3 घंटों के लिए थोड़ा बड़ा हो जाता है। यह आम तौर पर संभोग के लिए पर्याप्त होता है जिससे शर्मिंदगी झेलने की संभावना खत्म हो जाती है, खासकर किसी नए पार्टनर के साथ।

दूसरे समूह में प्रभाव की अवधि ओइंटमेंट लगाने की नियमितता पर निर्भर करती है। इस समूह के प्रोडक्ट सबसे ज़्यादा लोकप्रिय होते हैं क्योंकि ये किफ़ायती होते हैं और इनके नतीजे भी अच्छे आते हैं। औसतन, आप अपना लिंग 2 सेमी बड़ा कर सकते हैं।

तीसरे समूह के प्रोडक्ट्स में ऐसे खास जैल शामिल हैं जो घर्षण कम करने के काम आती हैं। इन्हें लिंग बड़ा करने के यांत्रिक उपकरणों के असर को बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है।

यदि आप विधि की तकनीक को ठीक से उपयोग करेंगे और इन प्रोडक्ट्स को नियमित रूप से लगाएंगे तो उत्पादक इस बात की गारंटी देते हैं कि आपको नतीजे 2-3 हफ्तों में दिखने लगेंगे (ऐसी अल्पकालिक प्रभाव वाली क्रीमों को छोडकर जिन्हें संभोग के ठीक पहले लगाया जाता है)।

दवाइयाँ और डाइटरी साप्लिमेंट्स। बिना दवाइयों के अपने लिंग की लंबाई कैसे बढ़ाएँ?

लिंग बढ़ाने की सभी दवाइयों में हॉरमोन होते हैं। डॉक्टर की सलाह और देख-रेख के बिना इन दवाइयों को लेना बिल्कुल प्रतिबंधित है। इनके कुछ आम नकारात्मक असर होते हैं हाइपरसेक्सुयालिटी (अत्यधिक सेक्स) और हॉरमोन से संबंधी गड़बड़ियाँ हो सकती हैं।

जैविक रूप से सक्रिय पदार्थों को इसलिए मिलाया जाता है क्योंकि इनसे खड़े होने और शीघ्रपतन जैसी समस्याओं में आराम मिलता है। उत्पादक इन उत्पादों को स्वास्थ्य के लिए पूरी तरह सुरक्षित बता कर मार्केटिंग करते हैं। इनसे कैवर्नस बॉडीज़ में रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है जिससे लिंग का साइज़ बढ़ जाता है और साथ ही सेक्स संबंधी समस्याएँ भी ठीक हो जाती हैं।

इन उत्पादों में प्राकृतिक पदार्थ होते हैं जैसे हर्बल एक्सट्रैक्ट्स, कैन मिर्च, विटामिन और अन्य सहयोगी पदार्थ। इलाज की अवधि के आधार पर खड़ेपन में बेहतरी होती है, खड़ेपन की समस्याएँ दूर हो जाती हैं और लिंग के साइज़ में बढ़त देखी जाती है।

हर वो चीज जो आप लिंग बढ़ाने के तरीकों के बारे में जानना चाहते थे। अपने लिंग को 5 सेमी लंबा कैसे करें?

अपने जननांगों को बड़ा करने के किसी भी तरीके को अपनाने के पहले हम सलाह देंगे कि आप किसी मूत्र रोग विशेषज्ञ से सलाह ले लें। दवाइयों और डाइटरी सप्लिमेंट्स लेने के पहले तो ये अत्यावश्यक है।

सबसे असरदार तरीका कौन सा है?

इस प्रश्न का कोई सीधा सा जबाब नहीं है। यह निर्भर करता है आप कैसा महसूस करते हैं, आपके लक्ष्य क्या हैं और क्या आप रोज नियमित रूप से व्यायाम करने में सक्षम हैं। एक नियम के तौर पर यांत्रिक विधियों से अच्छे नतीजे तभी मिलते हैं जब आप इन्हें ओइंटमेंट्स और लुब्रिकेंट्स के साथ उपयोग करते हैं।

नतीजे कितने दिन बाद दिखने लगते हैं?

यदि क्रीमों की बात करें, खासकर अल्पकालीन प्रभाव वाली क्रीमों की, तो आपको नतीजे कुछ ही मिनटों में दिखने लगेंगे। लेकिन इनका असर सिर्फ 2-3 घंटे तक ही रहता है।

यदि आप जेल्क़िंग करते हैं या यांत्रिक उपकरण इस्तेमाल करते हैं तो नतीजे 2-3 हफ्तों में नज़र आने लगेंगे और लंबे समय तक बने रहेंगे।

यदि आप सभी तरीके एक साथ इस्तेमाल करेंगे (खींचना, दवाइयाँ, डाइटरी सप्लिमेंट्स और ओइंटमेंट इत्यादि), तो क्या असर कई गुना बढ़ जाएगा?

नहीं, आप सभी तरीकों को एक साथ इस्तेमाल नहीं कर सकते। इसमें खुद को चोट लगा बैठने का खतरा होता है। कॉर्पस कैवर्नोसम के बढ़ने से ही आपका लिंग बड़ा होता है। रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है और लिंग कुछ सेमी बड़ा हो जाता है। यह प्रभाव धीरे-धीरे और नियमित रूप से व्यायाम करने से मिलता है।

क्या मैं अपने आपको चोट पहुंचा सकता हूँ?

हाँ, यदि आप लापरवाही करेंगे। लिंग पर वजन लटकाने को काफी जोखिम भरा समझा जाता है। आप हर चीज एक साथ होते देखना चाहते हैं, कुछ लोग ऐसे वजन इस्तेमाल करना चाहते हैं जो बहुत भारी हैं, इससे लीगामेंट फट सकते हैं। एक वैक्यूम पंप से भी चोट लगने का खतरा होता है, जैसे हैम्रेज या हीमाटोमा। आपको पंप का प्रेशर लगातार निगरानी में रखना होगा।

क्या लिंग का असाइज़ हमेशा के लिए बढ़ जाता है?

जी हाँ। अधिकतर तकनीकें लंबे दीर्घ कालिक नतीजों पर केन्द्रित होती हैं। इन विधियों के लगातार उपयोग से कैवर्न बॉडीज़ बड़ी हो जाती हैं और स्थायी रूप से ऐसी ही रहती हैं।

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक

उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा।